जिमनास्ट दीपा कर्माकर कांस्य पदक से चूकी



भारत की जिम्नास्ट दीपा कर्माकर 31वें ओलंपिक खेलों के वॉल्ट इवेंट के फाइनल में चौथे नंबर पर रहीं. वह कुछ अंकों से कांस्य पदक से चूक गईं. लेकिन वर्ष 1896 से हो रहे ओलंपिक में वह पहली भारतीय महिला जिमनास्ट बन गई जो फाइनल में पहुंची हैं.

इससे पहले, 52 सालों के बाद ओलंपिक खेलों की जिम्नास्टिक स्पर्धा में पहली भारतीय महिला एथलीट के तौर पर प्रवेश करके वह इतिहास बना चुकी हैं. टेबल वॉल्ट के इस मुकाबले में अमेरिका की सिमोन बाइल्स टॉप पर रहीं. अब उनका मुकाबला 14 अगस्त को है.
वहीं, अमेरिकी स्विमर माइकल फेल्प्स ने कॅरियर का उन्नीसवां गोल्ड मेडल अपने नाम करके इतिहास रच दिया. वुमन टेनिस डबल्स में वीनस-सेरेना विलियम्स की जोड़ी पहले राउंड में ही बाहर हो गई.

रियो ओलंपिक के दूसरे दिन तीरंदाजी में भारत को बड़ा झटका लगा. दीपिका कुमारी, बोम्बायला देवी और लक्ष्मीरानी मांझी की तिकड़ी क्वार्टरफाइनल से आगे नहीं बढ़ी.
शूटिंग में भी भारत को निराशा हाथ लगी. दस मीटर एयर पिस्टल राउंड में हिना सिद्धू 14वीं रैंक के साथ बाहर हो गईं.

इस बीच अच्छी खबर ये रही कि भारत की महिला हॉकी टीम अपने से बेहतर रैंक वाली जापान की टीम को बराबरी पर रोकने में कामयाब रही और मुकाबला 2-2 से बराबर रहा.

 

#जिमनास्ट, #दीपा कर्माकर, #रियो ओलंपिक, #दीपिका कुमारी, #बोम्बायला देवी, #लक्ष्मीरानी मांझी,  #टेबल वॉल्ट, #हिना सिद्धू

Leave A Comment

  • Linked In
  • FaceBook
  • RSS

Enter your email address:

ये भी पढ़ें

फोटो गैलरी

Photo Gallery