महिला युगल ग्रैंडस्लैम खिताब जीतने वाली पहली भारतीय महिला बनीं सानिया



भारतीय टेनिस स्टार सानिया मिर्जा ने स्विटजरलैंड की अपनी जोड़ीदार मार्टिना हिंगिस के साथ मिलकर विंबलडन का ग्रैंडस्लैम महिला युगल खिताब अपने नाम किया। यह सानिया के करियर का पहला महिला युगल ग्रैंडस्लैम खिताब है। हिंगिस के लिए भी यह खिताब काफी खास है, उन्होंने 17 साल बाद विंबलडन के फाइनल में जीत हासिल की है।

पेशेवर बनने के 12 साल बाद सानिया ने पहला महिला युगल ग्रैंडस्लैम खिताब जीता। सानिया और हिंगिस की जोड़ी ने फाइनल में एक सेट से पिछड़ने के बाद वापसी करते हुए एकाटेरिना मकारोवा और एलेना वेस्नीना की रूस की दूसरी वरीय जोड़ी को कड़े मुकाबले में 5-7, 7-6, 7-5 से हराया।

सानिया ने इससे पहले 2003 में रूस की एलिसा क्लेबानोवा के साथ यहीं जूनियर विंबलडन चैम्पियनशिप का लड़कियों का युगल खिताब भी जीता था।

सानिया 2011 में भी महिला युगल ग्रैंडस्लैम जीतने के करीब पहुंची थी जब उनकी और एलेना वेस्नीना की जोड़ी ने फ्रेंच ओपन के फाइनल में जगह बनाई थी लेकिन तब इस जोड़ी को उप विजेता बनकर संतोष करना पड़ा था।

सानिया इससे पहले 2009 में ग्रैंडस्लैम जीतने वाली पहली भारतीय महिला भी बनी थी जब उनकी और हमवतन महेश भूपति की जोड़ी ने 2009 में ऑस्ट्रेलियाई ओपन का मिश्रित युगल खिताब जीता था।

इस दिग्गज खिलाड़ी ने इसके बाद 2012 में भी भूपति के साथ फ्रेंच ओपन का खिताब जीता जबकि 2014 में ब्रूनो सोरेस के साथ मिलकर अमेरिकी ओपन का खिताब अपने नाम करने में सफल रही।

Leave A Comment

  • Linked In
  • FaceBook
  • RSS

Enter your email address:

ये भी पढ़ें

फोटो गैलरी

Photo Gallery