इरोम शर्मिला ने खत्म किया अनशन, बोलीं- मैं मणिपुर की मुख्यमंत्री बनना चाहती हूं



इरोम चानू शर्मिला ने  16 साल बाद अपना अनशन खत्म कर दिया.

इंफाल में 9 अगस्त को अपना अनशन खत्म करते समय इरोम अपने आंसू नहीं रोक पाईं. उन्होंने कहा, “मैं क्रांति की प्रतीक हूं. मैं मणिपुर की मुख्यमंत्री बनना चाहती हूं.”

मणिपुर की रहने वाली इरोम का यह अनशन आर्म्ड फोर्सेस स्पेशल पावर एक्ट यानी (AFSPA) के विराध में था.

इससे पहले इरोम शर्मिला के अदालत में दिए अनशन तोड़ने के वादे के बाद आज यहां की एक अदालत से उन्हें जमानत मिल गई थी. शर्मिला के वकील एल रेबादा देवी ने बताया, ‘‘अदालत ने दो गवाहों की गवाही के बाद उन्हें 10,000 रूपये के निजी मुचलके पर जमानत दे दी.’’

इरोम शर्मिला ने कहा, ”मुझे आज़ाद किया जाए. मुझे अजीब सी महिला की तरह देखा जा रहा है. लोग कहते हैं, राजनीति गंदी होती है, मगर समाज भी तो गंदा है. मैं सरकार के ख़िलाफ़ चुनाव में खड़ी होऊंगी. मैं सबसे कटी हुई थी. मैंने महात्मा गांधी के सिद्धांतों पर अमल किया है. मेरा ज़मीर क़ैद था, अब मुझे आज़ाद होना होगा. लोग मुझे इंसान के तौर पर क्यों नहीं देख सकते? मैं अपील करती हूं कि मुझे आज़ाद किया जाए.”

साल 2000 में उन्होंने अपने अनशन की शुरुआत की थी और तब से उन्हें जिंदा रखने के लिए पाइप के जरिए लिक्विड डाइट दी जाती रही है.

ख़बरें और भी-

16 साल बाद अनशन खत्म कर चुनाव लड़ेंगी इरोम शर्मिला
महिलाएं स्वयंसिद्धा हैं-महाश्वेता देवी

 

#Irom chanu sharmila,#इरोम शर्मिला, #अनशन, #मुख्यमंत्री, #AFSPA, #महात्मा गांधी, #चुनाव

Leave A Comment

  • Linked In
  • FaceBook
  • RSS

Enter your email address:

ये भी पढ़ें

फोटो गैलरी

Photo Gallery